महामृत्युंजय का मेला

महामृत्युंजय
  • आयोजन का समय: February
  • महत्व:

    रीवा जिले में महामृत्यंजना का मंदिर स्थित है जहाँ बसंत पंचमी और शिवरात्रि को मेला लगता है। बसंत पंचमी का मेला किला सहित देवतालाब के प्रसिद्घ शिव मंदिर गुढ़ के भैरवनाथ सेमरिया स्थित बिरसिंहपुर शिव मंदिर, लालगांव के पास क्योंटी में पांच दिन का मेलालगता है। इसी तरह अड़गड़नाथ सोहागी पहाड़ पर अष्टभुजी मंदिर, नईगढ़ी, बसामन मामा सहित जिले के शिव मंदिरों में भक्तगण पहुंचकर पूजा-अर्चना करेंगे।

    बसंत पंचमी पर्व पर नई फसलों का भी महत्व रहता है। शिव भक्त जहां बैर के फल, धतूरा, पूजा-अर्चना में शिव भगवान को चढ़ाते हैं वहीं खेतों में तैयार होने वाली गेहूं की बाल, घी, दूध, दही आदि का भी उपयोग पूजा में करते हैं। बसंत पंचमी से मौसम में बदलाव भी आता है और बसंती बयार जहां गर्मी आने का संदेश देती है वहीं पेड़, पौधों में लगे हुए हरे पत्ते पीले पड़ने लगते हैं।